Trading और Investing में क्या अंतर है? किसमे मुनाफा सबसे ज्यादा होता है? | what is difference between Investing and Trading?

  नमस्ते दोस्तो, क्या आप भी स्टॉक मार्केट में पैसे लगागके मुनाफा कमाना चाहते हो पर आपको समझ नही आ रहा Trading और Investing में क्या अंतर है? कही दोनो एक ही तो नही ना? आपकी इस what is difference between Invester and trader रुकावट का जवाब हम आपको इस लेख में देंगे जिसे आप अच्छा invest और  trading  करके अच्छा मुनाफा कमा पाये।

            जब नये लोग शेयर बाजार मे कदम रखते है तो उन्हे दो शब्द बहत बार सुनेको मिलता है और उन्हे लगता है की दोनों का मतलब एक ही है पर ऐसा है नही।  तो आये जानते Investing और Trading क्या है? दोनों के बीच का अंतर क्या है।



Investing और Trading में क्या अंतर है?



Investing और Trading में क्या अंतर है?


  • Investing : Investing एक ऐसी नीति है जिसमे आप अपने पैसे (money/capital) को ऐक साल या उसे ज्यादा समय तक किसी चीज यार स्टॉक मे निवेश करके अपनी आय(income) बड़ा ने की नीति को Investing कहा जाताहौ। और इस तकनीक को उपयोग करने वाले व्यक्ति को investor बोल जाता है। 
  • Trading : Trading एक ऐसी नीति है जिसे आप अपने पैसे (money/capital) किसी स्टॉक मे एक दिन, एक हप्ता या  ज्यादे ज्यादा एक महीने तक निवेश करके मुनाफा कमाने को Trading कहा जाता है। और इस तकनीक को उपयोग करने वाले व्यक्ति को Trader बोल जाता है। 

                चलिये अब हम कुछ पॉइंट्स लेकर Investing और Trading का अंतर समझते है। 


Investing :- निवेश


  Investing इन चीजो की वजह से काफी अलग है। :
  1. Time(समय): Investing मे निवेश करके मुनाफा कमाने तक का समय 1 साल या उसे ज्यादा होता है। 
  2. Objective(लक्ष्य): Investing मे लोगो का लक्ष्य लंबे समय तक किसी चीज या स्टॉक मे मुड़ी (पैसा) लगा कर जब 1 या 2 साल के बाद उस चीज की कीमत मे बढ़ोतरी होती है तब बेच देनेको होता है। जिसे मुनाफा हो सके। 
  3. Frequency(आवृति): Investing मे investor(निवेशक) कभी भी किसी चीज मे निवेश करके तुरंत बेचते नही है। वो उस चीज की कीमत बड़ने का इंतेजार करते है। 
  4. Analysis(विश्लेषण): निवेशक किसी भी चीज मे निवेश करने से पहले fundamental Analaysis(मौलिक विश्लेषण) और कंपनी के आर्थिक प्रामाणिकता, प्रबंधन, उद्योग की प्रवृत्तियों की मूल्यांकन करते हैं।
  5. Risk(जोखम): Trading के मुकाबले Investing मे जोखम नही के बराबर होता है। हलकी अगर आप invest किसी भी विश्लेषण के बिना करोगे तो नुक्सान होना तय है। एसलि investment (निवेश) से पहले Analaysis जरुरु करे। 
  6. भावनात्मक तनाव:निवेश करने में आमतौर पर कम भावनात्मक तनाव होता है क्योंकि आप स्वतंत्र मार्केट उतार-चढ़ावों का नियमित रूप से प्रतिक्रिया नहीं देने की आवश्यकता नहीं होती है।
  7. स्थायिता: दीर्घकालिक निवेश बाजार में स्थिर और स्थायी स्रोत से धन संचयन प्रदान कर सकता है।


Trading :- व्यापार


  Trading इन चीजो की वजह से काफी अलग है। :
  1. Time(समय): Trading मे निवेश करके मुनाफा कमाने तक का समय 1 मिनिट, 1 दिन ज्यादा से ज्यादा 1 महिना होता है। 
  2. Objective(लक्ष्य): Trading मे लोगो का लक्ष्य कम समय मे किसी स्टॉक मे capital (पैसे) लगा कर मुनाफा करना होता है। 
  3. Frequency(आवृति): Trading मे लोग मुनाफा कमाने के लिए 1 से जयादा या 10 से 15 बार ओडर लगते है एक दिन मे लगाते है। 
  4. Analysis(विश्लेषण): Trader (व्यापारी) ओडर लागिने के लिये तकनीकी विश्लेषण, चार्ट्स और संकेतकों पर ज्यादा ध्यान देते हैं।
  5. Risk(जोखम): Trading मे  Investing मुकाबले मे जोखम बहत ज्यादा होता है। क्योकि समय मे खरीदना और बेचना होता है जिसमे ज्यादा तर बहत मुश्किल अब कीमत बड़ेगी या कम होगी। हा अगर आपको तकनीकी विश्लेषण, चार्ट्स और संकेतकों का विश्लेषण करना आ गया तो आप अच्छे से मुनाफा कमा सकते हो। 
  6. भावनात्मक तनाव: व्यापार करना भावनात्मक तनावदायक हो सकता है क्योंकि यह तेजी से बदलते बाजार उतार-चढ़ावों की वजह से नुकसान की संभावना बढ़ाता है।
  7. स्थायिता:व्यापार के लाभ अस्थिर हो सकते हैं, और सभी व्यापारी हमेशा लाभकारी नहीं होतसकते हैं। यह कौशल, अनुशासन और जोखिम प्रबंधन की क्षमता की आवश्यकता होती है।

 अगर आप शेयर बाजार में एक bignner है तो ये जरूर पड़िये गा

Investing और Trading के कुच छोटे सवालों के जवाब(FAQ):


ट्रेडिंग को हिंदी में क्या कहते हैं?



ट्रेडिंग को हिंदी मे कहा जाता है व्यापार करना। जिसमे कुछ मिनट मै खरीदी और बिक्री करके मुनाफा कमाया जा सकता है।





Investing को हिंदी मे क्या कहते है?



Investing को हिंदी मे कहा जाता है निवेश करना। जिसमे आप कम कीमत पर खरीदते है और कीमत बड़ने पर ही बेचते है। जिसकी समय अवधी 1 साल या उसे ज्यादा की होती है।





सबसे अच्छा ट्रेडिंग या निवेश कौन सा है?



यु तो ट्रेडिंग और निवेश दोनों ही अपने अपने तरीके अच्छे है। किसी के लिये ट्रेडिंग अच्छा होगा किसी के लिये इंवेस्टिंग (निवेश) अच्छा होगा।
आपके लिये क्या अच्छा है वो आपकी पसंद के उपर है। मेरे मुताबि अगर आपको stock market मे कुछ भी नही आता तो आप investing से शुरुआत कर सकते है।



ट्रेडिंग का काम क्या होता है?

किसी भी चीज को का दाम मे खरीदकर उचे दाम मे बेचना वो भी एक थोड़ी से समय अंतराल मे मुनाफा कमाने को ट्रेडिंग कहा जाता है। उदाहरण के तोर पर आज मे सब्जी मंडी जा कर बहत सारी सब्जी खरीद कर लाता हु और उस उचे दामो मे बेचता हु साजिया खराब होने से पहले। तो इस तरीके को कहते है ट्रेडिंग।




एक bignner के लिये क्या अच्छा है ट्रेडिंग या इंवेस्टिंग?

अगर आप bignner हो और आपको सुरुवात इंवेस्टिंग से करे तो अच्छा होगा क्यो की इंवेस्टिंग मे जोखम ट्रेडिंग से कम होता है। बादमे आप धीरे धीरे ट्रेडिंग की और जा सकते है।



Comments

No comments yet. Why don’t you start the discussion?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *